Happy Mother's Day 2022 Hindi Shayari, Wishes: या शायरींच्या माध्यमातून द्या मातृदिनाच्या शुभेच्छा, खास बनवा तुमचा मातृदिन

लाइफफंडा
भरत जाधव
Updated May 08, 2022 | 10:50 IST

मदर्स डेच्या दिवशी मुलं त्यांचा जास्तीत जास्त वेळ आईसोबत घालवण्याचा प्रयत्न करतात. अनेक मुले आईसोबत फिरायला जातात. त्यामुळे काही लोक घरी एकत्र मजा करतात आणि चांगला वेळ घालवतात.

Happy Mother's Day 2022 Wishes Hindi Shayari,
शायरीच्या माध्यमातून द्या मातृदिनाच्या शुभेच्छा  |  फोटो सौजन्य: Indiatimes
थोडं पण कामाचं
  • दरवर्षी मे महिन्याच्या दुसऱ्या रविवारी जगभरात मातृदिन साजरा केला जातो.
  • यंदा 8 मे रोजी मातृदिन साजरा केला जाणार आहे.
  • आईसाठी प्रत्येक दिवस खास असतो, पण मदर्स डेच्या दिवशी त्याला आणखी खास बनवण्याची संधी मिळते.

Happy Mother's Day 2022 Wishes Hindi Shayari, Images, Messages: मदर्स डेच्या दिवशी मुलं त्यांचा जास्तीत जास्त वेळ आईसोबत घालवण्याचा प्रयत्न करतात. अनेक मुले आईसोबत फिरायला जातात. त्यामुळे काही लोक घरी एकत्र मजा करतात आणि चांगला वेळ घालवतात. मात्र, इच्छा असूनही मदर्स डेच्या दिवशी आईला भेटू न शकलेली अनेक मुले आहेत. ते मुलं आज शायरीच्या माध्यामातून मदर्स डे च्या शुभेच्छा देऊ शकतात. 
ज्यांना आईला भेटता येत नाही, त्यांना फोन करून शुभेच्छा दिल्या. तुम्हालाही जर तुमच्या आईला निरोप पाठवायचा असेल आणि तुम्हाला तिची किती आठवण येतेय हे सांगायचे असेल तर क्षणाचाही विलंब न लावता ही उणीव, कविता, संदेश, फोटो, वॉलपेपर पाठवून ही कमतरता दूर करा आणि हा मदर्स डे कायमचा अविस्मरणीय बनवा.

चलती फिरती हुई आंखों से अजां देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी, मां देखी है
(मुनव्वर राना)

mother day

मुझे मालूम है मां की दुआएं साथ चलती हैं
सफर की मुश्किलों को हाथ मलते मैंने देखा है
(आलोक श्रीवास्तव)

mother day

मुद्दतों बाद मयस्सर हुआ मां का आंचल
मुद्दतों बाद हमें नींद सुहानी आई
(इकबाल अशहर)

मां की आगोश में कल मौत की आगोश में आज
हम को दुनिया में ये दो वक़्त सुहाने से मिले
(कैफ भोपाली)

एक दुनिया है जो समझाने से भी नहीं समझती
एक मां थी बिन बोले सब समझ जाती थी
(अज्ञात)

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
मां बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है
(मुनव्वर राना)

mother day

हर मंदिर, हर मस्जिद और हर चौखट पर माथा टेका
दुआ तो तब कबूल हुई जब मां के पैरों में माथा टेका
(अज्ञात)

मैं रोया परदेस में भीगा मां का प्यार
दुख ने दुख से बात की बिन चिट्ठी बिन तार
(निदा फाजली)

mother

भारी बोझ पहाड़ सा कुछ हल्का हो जाए
जब मेरी चिंता बढ़े मां सपने में आए
(अख्तर नज्मी)

आज फिर मां मुझे मारेगी बहुत रोने पर
आज फिर गाँव में आया है खिलौने वाला
(अज्ञात)

mother day

मां के बिना जिंदगी वीरान होती है
तन्हा सफर में हर राह सुनसान होती है
जिंदगी में मां का होना जरूरी है
मां की दुआओं से ही हर मुश्किल आसान होती है।

हर रिश्ते में मिलावट देखी, कच्चे रंगों की सजावट देखी
लेकिन सालों साल देखा है मां को
उसके चेहरे पर न थकावट देखी
ना ममता में मिलावट देखी।

अकेली हो जाती है दुनिया
जब मां कहती है
तू भी कुछ सीख ले
मैं कब तक साथ रहूंगी।

mother new

मैं फेंक दिए हैं ताबीज़ और कलावे
मां की दुआओं से ज़्यादा
शक्ति किसी चीज़ में नहीं होती।

जब भी क़श्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
मां दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है।

ताज्या बातम्यांच्या अपडेटसाठी Times Now मराठीच्या फेसबुक पेजला लाइक करा.

पुढची बातमी